30+ Maut Shayari in Hindi | मौत पर शायरी

maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

Maut Shayari In Hindi: क्या आप मौत के ऊपर शायरी पढ़ना चाहते है तो आपको इस लेख में आपका स्वागत है इस लेख में आपको मौत पर शायरी संग्रह देखने को मिलेंगे उम्मीद है आप यह लेख पसंद करेंगे।


Table of Contents

मौत शायरी 2 लाइन

maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

न मुझे मौत के अलावा किसी से उम्मीद है,
और न क़ब्र के सिवा किसी को मेरा इंतज़ार!


कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
मौत इंसानों को आती है यादों को नहीं।


मौत से क्या डर मिनटों का खेल है,
आफत तो जिंदगी है जो बरसो चला करती है।


वक़्त की मार से डरता हूँ मैं,
मौत तेरा डर नहीं है मुझे।


कितने भी पैर जमा ले दुनिया में,
मौत इक दिन उखाड़ ले जाएगी।


maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

अपनी मौत भी क्या मौत होगी,
एक दिन यूँ ही मर जायेंगे तुम पर मरते मरते।


आता है कौन कौन तेरे गम को बांटने,
तू अपनी मौत की अफवाह उड़ा के देख।


मौत को यूं ही बदनाम करते हैं लोग,
तकलीफ तो साली जिंदगी देती है।


यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी जिंदगी,
हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत न मिली।


मौत तेरा डर नहीं मुझको,
क्योंकि मारा है जीते जी अपनो ने मुझको।


Maut Shayari In Hindi

maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

न जाने किस गुनाह की सजा दे दी,
उसे लिखकर किसी ओर के नसीब में,
मेरे खुदा ने ही मुझे मौत दे दी।


वादे तो हजारों किये थे उसने मुझसे,
काश एक वादा उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने जिंदा दफनाया न होता।


कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे,
ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे,
यूँ घुट-घुट के जीने से तो मौत बेहतर है,
मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे।


क्या कहूँ तुझे ख्वाब कहूँ तो टूट जायेगा,
दिल कहूँ, तो बिखर जायेगा,
आ तेरा नाम जिंदगी रख दूँ,
मौत से पहले तो तेरा साथ छूट न पायेगा।


आसमान के परे मुकाम मिल जाए,
खुदा को मेरा ये पैगाम मिल जाए,
थक गयी है धड़कनें अब तो चलते चलते,
ठहरे ये सांसे तो शायद आराम मिल जाए।


maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,
किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता,
एक बार जी भर के देख लो इस चहरे को,
क्यूंकि बार बार कफन उठाया नहीं जाता।


मोहब्बत के नाम पे दीवाने चले आते हैं,
शमा के पीछे परवाने भी चले आते हैं,
तुम्हें याद न आये तो चले आना मेरी मौत पर,
उस दिन तो बेगाने भी चले आते हैं।


तकदीर बदलने की हिम्मत किसमें होती है,
सुना है मौत हाथों की रेखा में लिखी होती है।


जहर पिने से कब मौत आती है,
मर्जी खुदा की भी चाहिए मरने के लिए।


ना जाने मेरी मौत कैसी होगी,
पर ये तो तय है की तेरी
बेवफाई से तो बेहतर होगी।


मौत पर शायरी

maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

क्या खूब रिश्ता है इश्क़ और मौत का,
एक को दिल चाहिए और एक को धड़कन।


जिदंगी तो बड़ी दर्द देती है साहब,
बस मौत ही है जो सारे दर्दों से छुटकारा दिलाती है।


तूफान की शिरकत है
या मौत का पैगाम,
मै इतना खामोश
पहले कभी न था।


वफ़ा सीखनी है तो मौत से सीखो,
जो एक बार अपना बना ले,
फिर किसी का होने नहीं देती।


प्यार में सब कुछ भुलाए बैठे हैं,
चिराग यादों के जलाये बैठे है,
हम तो मरेंगे उनकी ही बाहों में,
ये मौत से शर्त लगाये बैठे हैं।


maut shayari in hindi, maut shayari hindi, maut shayari 2 line, मौत शायरी, मौत पर शायरी, मौत शायरी 2 लाइन, मौत की शायरी
Maut Shayari

मौत से शिकायत नहीं अपनों से है,
क्योंकि जरा सी आंख बंद क्या हुई,
वो कब्र खोदने लगे।


तुम समझते हो की मुझे जीने,
की तलब है,
मगर मैं तो जिन्दा इस आस में हूँ,
की मरना कब है।


मंज़िल तोह तेरी यही थी बस जिंदगी,
गुजर गयी तेरी यहाँ आते आते
क्या मिला तुझे इन दुनिया वालो से
अपनों ने ही जला दिए तुझे जाते जाते।


मौत मांगते है तो जिंदगी खफा हो जाती है,
जहर लेते है तो वो भी दवा हो जाती है,
तु बता ऐ जिंदगी तेरा क्या करू,
जिसको भी चाहा वो बेवफा हो जाती है।


जन्नत किसे कहते है पता नहीं,
एक तुम्हारा मिल जाना ही काफी था,
मौत किसे कहते है पता नहीं,
एक तुमसे बिचड़ जाना ही काफी था।


एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जायेंगे,
सब रिश्ते इस जमीन के तोड़ जायेंगे,
जितना जी चाहे सता लो मुझको,
एक दिन रोता हुआ सबको छोड़ जायेंगे।


Leave a Comment