[30+] Insaniyat Shayari in Hindi | इंसानियत पर शायरी

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi
Insaniyat Shayari in Hindi

Insaniyat Shayari in Hindi: दोस्तो इंसानियत, हमारी मानवता की पहचान है, इसे संरक्षित रखें और अपने विचारों में इंसानियत को जीवंत रखें और इसे दूसरों के बीच फैलाएं जब हम इंसानियत से भरा हुआ होंगे, तब हम जीवन के सभी पहलुओं में सफल होंगे।
आज की इस खूबसूरत लेख में हम आपके लिए इंसानियत पर कुछ चुनींदा शायरी साझा कर रहे है, आशा है की यह पोस्ट के शायरी आपको पसंद आयेंगे।


Insaniyat Shayari in Hindi | इंसानियत शायरी

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi
Insaniyat Shayari in Hindi

अब क्या ही दलील राखी जाएगी
ऊपर वाले की अदालत में,
जब इंसान ही ज़िम्मेदार है,
इंसानियत की इस हालत में।


इंसान ही आता है काम इंसान के
मददगार कोई फरिश्ता नही होता,
यह सच्चाई जान ले ऐ दोस्त इंसानियत
से बड़ा कोई रिश्ता नही होता।


इंसानियत ही पहला धर्म है इंसान का,
फिर पन्ना खुलता है गीता और कुरान का…


सभी को सभी के आंसू झूठे
नज़र आने लगे है,
अब लगता है दिल सीने में
पत्थर के आने लगे हैं!


अंधो की दुनिया में गूंगी जुबान
हो गई बहरे लोग है यहां तभी
तो इंसानियत तबाह हो गई….


इंसानियत पर शायरी

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi
Insaniyat Shayari in Hindi

कामियाबी ऊपर और
इंसानियत नीचे रह गई,
पैसे कमाने की ख्वाहिश में
मानवता कहीं पीछे रह गई!


आज लाखों डिग्रीयां हो गई है,
कॉलेजों में मगर इंसानियत का पाठ
अब कोई नहीं पढ़ता।


जिंदा रहने के लिए भी, आज मरना जरूरी है,
कि ये दुनिया लाशो की शौक़ीन हो गई है,
आँखें बंद कर के तमाशा देख रहा है इंसान,
इंसानियत जैसे ज़मीन के अंदर सो गई है।


कोई हिन्दू कोई मुस्लिम कोई ईसाई है,
सब ने इंसान ना बनने की क़सम खाई है!


इंसानियत तो एक है,
मजहब अनेक है ये जिंदगी
इसको जीने के मक़सद अनेक है…


Shayari On Insaniyat

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi
Insaniyat Shayari in Hindi

खुदा ना बदल सका आदमी को आज भी यारों,
और आदमी ने सैकड़ो खुदा बदल डाले…


एक जानवर दूसरे जानवर का
होते देखा है मैंने, मगर आज तक
एक इंसान दूसरे इंसान का ना रहा।


होठो पर मुस्कान रहे,
हर दम तेरा ध्यान रहे,
जिस दिल में इंसानियत,
उस दिल में भगवान रहे!


हुकूमत बाजुओं के ज़ोर पर
तो कोई भी कर ले,
जो सबके दिल पे छा जाए
उसे इंसान कहते हैं।


उस शिक्षा का कोई भी मतलब नही
जो तुम्हे इंसानियत ना सिखाती हो…


Insaniyat Shayari In Hindi 2 Line

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi
Insaniyat Shayari in Hindi

इंसानियत का कद हमेशा
हैसियत से बड़ा होता है।


ढूंढ़ने से तो बशर को खुदा भी मिलता है,
खुदा अगर ढूंढे तो इंसान कहाँ मिलता है।


इंसान तो हर घर में जन्म लेता है बस
इंसानियत कही कही ही जन्म लेती है…


चंद सिक्कों में बिकता है यहाँ इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मेरे मुल्क में महंगाई बहुत है।


इंसानियत की रोशनी गुम हो गई कहा,
साए तो है इंसान के मगर इंसान कहा!


Insaniyat Quotes In Hindi

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi

निभाते नही है वह लोग आजकल
वरना इंसानियत से बड़ा कोई रिश्ता नही!


पहले ज़मीं बँटी फिर घर भी बँट गया,
इंसान अपने आप में कितना सिमट गया।


इंसानियत की राह पर तुम्हें चलना होगा,
ठोकरें खा कर भी तुम्हें संभलना होगा।


मजहब की गुलामी करते-करते
भूल गए हम इंसानियत।


हर इंसान में होते हैं दस बीस इंसान,
जिस को भी देखना हो कई बार देखना।


Humanity Shayari In Hindi

Insaniyat Shayari in Hindi, shayari on Insaniyat, इंसानियत की शायरी, इंसानियत शायरी इन हिंदी, insaniyat quotes in hindi, insaniyat shayari hindi

फितरत, सोच और हालात में फर्क है वरना,
इंसान कैसा भी हो दिल का बुरा नहीं होता।


यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।


कौन किस कौम का है ये सवाल ही ना होता,
सिर्फ मानवता एक धर्म होता तो ये हाल ही ना होता…


आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो,
इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे!


इंसानियत दिल में होती है हैसियत में नही,
उपरवाला कर्म देखता है वसीयत नही।


रखते हैं जो औरों के लिए प्यार का जज्बा
वो लोग कभी टूट कर बिखरा नहीं करते!


Leave a Comment