25+ Best Ehsaan Shayari in Hindi | एहसान शायरी हिंदी में

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी
Ehsaan Shayari In Hindi

Ehsaan Shayari in Hindi: दोस्तो अगर कोई आपको मदद या उपकर कर रहा है या फिर आप किसी की उपकार कर रहे तो उसे ही हिंदी भाषा में एहसान कहता है। एहसान तो एक छोटा शब्द है लेकिन इसका मूल्य बहुत ही बड़ा होता है, जिसका आमतौर पर मतलब यह है की किसी जरूरत मंद की मदद करना और अगर कोई आपकी उपकर करे तो उनका सम्मान करना।
अगर आप एहसान पर शायरी पढ़ना चाहते है तो आपके लिए इस लेख हम Ehsaan Shayari in Hindi की संग्रह प्रकाश किए है।

Ehsaan Status In Hindi

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी
Ehsaan Shayari In Hindi

खुद को इतना कमजोर
मत होने दो,
की तुम्हे किसी के एहसान
की जरूरत हो!

जिंदगी जब देती है
तो एहसान नहीं करती,
और जब लेती है
तो लिहाज नहीं करती।

यू तो अकेला भी अक्सर
गिर के संभल सकता हूं मैं,
क्योंकि अगर लोग उठाएंगे तो
बाद में एहसान जताएंगे।

अकेले रहने में बहुत सुकून है,
ना किसी का एहसान
न किसी का नुक़सान!

कुछ नहीं चाहिए तुम्हारी इक मुस्कान ही काफ़ी है,
तुम दिल में बसे रहो ये अरमान ही काफ़ी है,
हम नहीं कहते तुम पास आ जाओ
हमें याद रखना बस ये एहसान ही काफ़ी है।

Ehsaan Shayari In Hindi

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी
Ehsaan Shayari In Hindi

ना माँग कुछ जमाने से
ये देकर फिर सुनाते हैं,
किया एहसान जो एक बार
वो लाख बार जताते हैं।

मांगो तो अपने रब से मांगो,
जो दे तो रहमत और न दे तो किस्मत,
लेकिन दुनिया से हरगिज मत मांगना,
क्योंकि दे तो एहसान और न दे तो शर्मिंदगी।

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये हैं।

एहसान फरामोश शायरी हिंदी

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी

हर वक्त काम आता रहा मैं जिनके
मेरे वक्त पे वो एहसान फरामोश निकले।

एहसान फरामोश को हरगिज ना पालिये,
बेहतर है एक टुकड़ा कुत्ते को डालिये।

वो तो बड़ा एहसान फ़रामोश निकला,
मुझसे थोड़ा बेहतर देखते ही
कहीं और चल निकला।

कितना भी कर लो कुछ लोगों के लिए,
बदले में उनसे सिर्फ
एहसान फरामोशी ही मिलनी है।

एहसान पर शायरी

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी
Ehsaan Shayari In Hindi

एहसान लेना भी हो तो ऐसे इंसान का
लो जिसकी जताने की आदत ना हो,
वरना एहसान का बोझ कर्ज के
बोझ से भारी हो जाएगा।

खुदगर्जो की बस्ती में एहसान भी गुनाह है,
जिसे तैरना सिखाओ वही डुबाने को तैयार है।

तेरा एहसान शायरी

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी

यादें बनकर जो तुम साथ रहते हो मेरे,
तेरे इस एहसान का भी सौ बार शुक्रिया।

यादें बनकर जो तुम साथ रहते हो मेरे,
तेरे इस एहसान का भी सौ बार शुक्रिया।

अच्छा हुआ
तूने ठुकरा दिया मुझे,
प्यार चाहिए था
तेरा एहसान नहीं।

एहसान शायरी दो लाइन

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी

मेरी अच्छाई का अच्छा सिला दिया उसने,
मुसीबत में मेरी मुझे भुला दिया उसने।

लोग कुछ इस तरह से एहसान जताते है,
वक्त की रोटी देकर चार वक़्त गिनाते हैं।

लोग एहसास नहीं
एहसान करते हैं।

अच्छा बुरा हर एक पल हंसकर गुजरना है,
एहसान तेरा जिंदगी, अब यूं उतरना है।

एहसान को अपने बीच में आने ना दीजिए,
इश्क़ है तो इश्क़ कीजिए, वरना जाने दीजिए।

एहसान शायरी हिंदी में

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी

मैं अकेली खुश हूं अब
मुझे परेशान मत करो
इश्क है तो इश्क़ करो
एहसान मत करो।

कोई एहसान कर दे मुझपे इतना
सा बता, भुलाया कैसे जाता है
दिल तोड़ने वाले को।

की मैं दूर हूं दुनिया के रिवाजों से
मुझे जिंदा लोगों में सामिल ना कर
और देख रहा है मेरा खुदा मुझे
तू मेरी फिक्र जाता कर मुझ पर एहसान ना कर।

एहसान किसी का वो रखते नहीं
मेरा भी चुका दिया,
जितना खाया था नमक मेरा,
मेरे जख्मों पर लगा दिया।

Love Ehsaas Shayari In Hindi

Ehsaan Shayari in Hindi, एहसान फरामोश शायरी हिंदी, तेरा एहसान शायरी, एहसान शायरी दो लाइन, एहसान पर शायरी

मेरी साँसों पर नाम बस तुम्हारा है,
मैं अगर खुश हूँ तो ये एहसान तुम्हारा हैं।

इश्क़ में एहसान नहीं
हक जताया जाता है।

चलो उसका नही तो खुदा का एहसान लेते हैं,
वो मिन्नत से ना माना तो मन्नत से मांग लेते हैं।

जो आदतों से बयां ना हो वो इश्क़ कैसा,
लफ़्ज़ों से तो एहसान भी जताएं जाते हैं।

Leave a Comment